माली समाज सेवा संस्थान गुड़ामालानी कार्यकारिणी कमेटी ने माली समाज की महान महिला शिक्षका सावित्री बाई फुले की हरषौउलास के साथ मनाई 191जयंती

माली समाज सेवा संस्थान गुड़ामालानी कार्यकारिणी कमेटी ने माली समाज की महान महिला शिक्षका सावित्री बाई फुले की  हरषौउलास के साथ मनाई 191जयंती

जय सावित्री बाई फुले की आज माली समाज सेवा संस्थान में सावित्रीबाई फूले की जयंती हर्षोल्लास के साथ मनाई गई जिसमें अध्यक्ष महोदय हीराराम जी परमार सचिव महोदय कालूराम जी माली समाज सेवा संस्थान कार्यकारिणी कमेटी मैंबर व विद्यालय परिवार की ओर से पुरे स्टाफ तथा कार्यक्रम में पधारे समाज बंधु गण एवं नन्हे मुन्ने बालक बालिकाओं का हृदय की गहराइयों से बहुत-बहुत हार्दिक अभिनंदन माली समाज सेवा संस्थान गुडामालानी मे आज 3 1 021 को सावित्री बाई फुले की 191जंयती पर कार्यक्रम रखा गया था जिसमो प्रतिभावान बच्चो को पुरूसकार वितरण किया गया सावित्रीबाई ज्योतिराव फुले का जन्म 3 1 1831 में हुआ था भारत की प्रथम महिला शिक्षिका, समाज सुधारिका एवं मराठी कवियत्री थीं। उन्होंने अपने पति ज्योतिराव गोविंदराव फुले के साथ मिलकर स्त्री अधिकारों एवं शिक्षा के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य किए। उन्हे भारत की प्रथम महिला शिक्षिका व समाज सुधारिका सावित्री बाई फुले को उनकी जयंती पर उन्हे सत सत नमन ज्योतिबा फुले उस समय के महान सुधारकों में से एक थे। उन्होंने दलित उत्थान और स्त्री शिक्षा के क्षेत्र में महत्वपूर्ण काम किये और इसकी शुरुआत की अपने ही घर से। सबसे पहले ज्योतिबा ने अपनी पत्नी सावित्री को शिक्षित किया और फिर सावित्री उनके साथ दलित एवं स्त्री शिक्षा की कमान सम्भालने लगी। महाराष्ट्र के पुणे में ज्योतिबा ने 13 मई 1848 को लड़कियों की शिक्षा के लिए पहला स्कूल ‘बालिका विद्यालय’ खोला। इस स्कूल को आगे बढ़ाया सावित्री बाई फुले ने। सावित्री न सिर्फ़ इस स्कूल की बल्कि देश की पहली शिक्षिका बनीं। साल 1848 से 1851 के बीच सावित्री और ज्योतिबा के निरंतर प्रयासों से ऐसे 18 कन्या विद्यालय पूरे देश में खोले गये।सावित्रीबाई फुले और उनके पति ज्योतिराव फुले ने वर्ष 1848 में मात्र 9 विद्यार्थियों को लेकर एक स्कूल की शुरुआत की थी। . उन्होंने महिला शिक्षा और दलित उत्थान को लेकर अपने पति ज्योतिराव के साथ मिलकर छुआछूत, बाल विवाह, सती प्रथा को रोकने व विधवा पुनर्विवाह को प्रारंभ करने की दिशा में कई उल्लेखनीय कार्य किये जय सावित्री बाई फुले की

Heeralal Mali

Heeralal Mali

Riddhi Siddhi Telicom, Sindhasawa Chouhan Gudamalani, Barmer, Rajasthan

[ 45 Posts ]

Recent Comments