वर्षगांठ के उपलक्ष में आयोजित यह कार्यक्रम अमरपुरा स्थित परिसर में प्रारंभ हुआ

वर्षगांठ के उपलक्ष में आयोजित यह कार्यक्रम अमरपुरा स्थित परिसर में प्रारंभ हुआ

संत शिरोमणि श्रीलिखमीदासजी महाराज स्मारक विकास संस्थान अमरपुरा , नागौर के तत्वावधान में छह दिवसीय समारोह का शुभारंभ हुआ । भव्य स्मारक लोकार्पण एवं देव मंदिर प्राण प्रतिष्ठा के पांचवें पाटोत्सव वर्षगांठ के उपलक्ष में आयोजित यह कार्यक्रम अमरपुरा स्थित परिसर में प्रारंभ हुआ । इस अवसर पर रामस्नेही संत रामरतन महाराज , बालेसर के पावन सान्निध्य में राम कथा प्रारंभ हुई । संत डूंगरदास महाराज के श्री मुख से श्रद्धालुओं को राम कथा का श्रवण का लाभ प्राप्त हुआ । इससे पूर्व संत लिखमीदास जी महाराज की जन्म स्थली बड़की बस्ती , चेनार से शोभा यात्रा ः मंगल कलश यात्रा ः का शुभारंभ हुआ । मातृशक्ति द्वारा बाबा रामदेव मंदिर में पूजा अर्चना करके इस शोभायात्रा में सहभागिता व्यक्त की गई । शोभायात्रा बड़की बस्ती , हनुमान बाग , माली संस्थान , विजय वल्लभ चौक , डे चौराहा , नागौर बीकानेर लाडनू बाईपास से होते हुए अमरपुरा गांव पहुंची । गाजे बाजे , घोड़े की सवारी के साथ निकली शोभायात्रा का श्रद्धालुओं द्वारा मार्ग में अनेक स्थानों पर पुष्प वर्षा कर स्वागत किया । शोभायात्रा में राधाकिशन तंवर , कार्यकारिणी सदस्य बहादुर सिंह भाटी , पारसमल परिहार , धर्मेन्द्र सोलंकी , कृपाराम गहलोत , रामनिवास सोलंकी , मनीराम सांखला , फतहचन्द चौहान , नथमल मिस्त्री , रामजीवण सांखला , दीपचंद सांखला , जगदीश सोलंकी , बाबूलाल सांखला , बालकिशन परिहार , मंगाराम मेघवाल , सैनिक क्षत्रिय माली संस्थान सचिव रामकुमार सोलंकी , अशोक , सुरेश सोलंकी , अनिल परिहार , देवकिशन सोलंकी , राधेश्याम टाक , तिलोकचंद परिहार , बजरंग सांखला , सुरजमल सोलंकी , श्रीमती संतोष सोलंकी , पूर्व वार्ड पंच पिंकी , बाया , ललिता , सरोज , मिनाक्षी सहित अनेक अनेक श्रद्धालु व मातृशक्ति ने भाग लिया । संत डूंगर दास महाराज द्वारा रामकथा का शुभारंभ भगवान शिव व सती संवाद से किया । उन्होंने सती के मन में भगवान राम की शक्ति व अवतार के संबंध में उत्पन्न संदेह का विशद् विवेचन किया । उन्होंने अपने प्रवचन में कहा कि अविश्वास व संदेह सदैव घर गृहस्थी पर आघात करता है । मानवीय जीवन में नमन करने से , प्रणाम करने से विनम्रता आती है तथा मन के अनेक दोष , विकार भी दूर होते हैं । इसलिए नमन या प्रणाम करने में कभी भी कंजूसी नहीं करनी चाहिए । संस्थान द्वारा संस्थान के तत्वावधान में प्रतिदिन दोपहर 2 बजे से 4 बजे तक राम कथा का आयोजन किया जा रहा है । शनिवार 4 नवंबर को भव्य भजन संध्या का आयोजन किया जाएगा जिसमें अनेक प्रसिद्ध भजन गायकों द्वारा भजनों की प्रस्तुतियां की जाएगी । रविवार 5 दिसंबर को माली सैनी समाज का राज्य स्तरीय प्रतिभा सम्मान समारोह होगा । इस आयोजन के निमित्त कार्यालय टीम में रूपचंद टाक , प्रमोद पंवार , सुरेश टाक , टीकमचंद कच्छावा तथा मोहनसिंह भाटी , श्याम सुंदर परिहार द्वारा व्यवस्था में सहयोग किया गया ।

Sona  Devi

Sona Devi

Maliyo Ka Mhola Didwana, कलवानी रोड सर्किल के पास, Nagaur, Rajasthan

[ 811 Posts ]

Recent Comments