डीसा के एक युवा किसान ने 1.75 लाख रुपये की लागत से सौर ऊर्जा से चलने वाला मिनी ट्रैक्टर बनाया

डीसा के एक युवा किसान ने 1.75 लाख रुपये की लागत से सौर ऊर्जा से चलने वाला मिनी ट्रैक्टर बनाया

आत्मनिर्भरता, बाग वाहनी में होंगे सफल, एक आत्मनिर्भर मिनी ट्रैक्टर खेती काम मे ओर दूध लाने और चारा लाने में मदद करेगा। डीसा के एक पढ़े-लिखे और युवा किसान ने सोलर और बैटरी से चलने वाला आत्मनिर्भर मिनी ट्रैक्टर तैयार कर किसानों को नया संदेश दिया है। जल संसोधन विकास निगम के पूर्व अध्यक्ष और डीसा के पूर्व विधायक स्वर्गीय गोरधनजी गिगाजी माली के पुत्र नवीनभाई माली पेट्रोल-डीजल की आसमान छूती कीमतों के बीच कम लागत में अधिक कमाई कैसे करें, इस पर शोध कर रहे हैं, जिससे किसानों को बसा ने का संदेश दिया जा रहा है। आत्मनिर्भर किसान। नवीनभाई माली ने हाल ही में एक मिनी ट्रैक्टर बनाने का विचार किया था और खेत में बैठकर ट्रैक्टर की व्यवस्था करके ट्रैक्टर बनाने के लिए डिजाइन का काम कर रहे हर्षदभाई पांचाल के पास गए और उन्हें ट्रैक्टर बनाने का विचार दिया और सौर ऊर्जा से तैयार किया कुछ ही दिनों में संचालित ट्रैक्टर। सौर ऊर्जा से चलने वाले ट्रैक्टर में सौर क्षमता होती है जो एक टन तक खींच सकती है। एक मिनी ट्रैक्टर बनाने में तीन महीने का समय लगा एक सौर प्रणाली द्वारा संचालित सौर मिनी ट्रैक्टर को बनाने में लगभग तीन महीने का समय लगा। इसके अलावा, एक इंजन नहीं बल्कि एक इलेक्ट्रिक डिवाइस का इस्तेमाल किया गया है, किसान नवीनभाई माली ने कहा। महंगाई के दौर में डीजल की बचत होगी। 1.75 लाख रुपये की लागत से सोलर से चलने वाला मिनी ट्रैक्टर बनकर तैयार हो गया है।किसान ने कहा कि ट्रैक्टर कई तरह से किसानों के लिए फायदेमंद होगा क्योंकि यह लागत के समय डीजल बचाता है और छोटी बागवानी में उपयोगिता के साथ-साथ चरवाहों के लिए दूध भरना, चारा लाना, पर्यावरण को बचाना और प्रदूषण को भी रोकना आसान बनाता है। नवीनभाई माली। कहां की हर साल करीब एक लाख श्रमिक खर्च और ईंधन की बचत होगी। जय श्री लखमाजी महाराज।

Ramesh Bhavan Bhai Mali

Ramesh Bhavan Bhai Mali

Word 4 Block F Plot No. 107 Adipur, Kachchh, Gujarat

[ 225 Posts ]

Recent Comments