भारतीय सेना में सैनी रेजिमेंट फिर सेशुरू करने की मांग सैनी समाज ने प्रधानमंत्री को लिखा पत्र

भारतीय सेना में सैनी रेजिमेंट फिर सेशुरू करने की मांग सैनी समाज ने प्रधानमंत्री को लिखा पत्र

सैनी समाज ने प्रधानमंत्री को लिखा पत्र लाडनूं @ पत्रिका . अखिल भारतीय कुशवाहा - सैनी महासभा की जिलाध्यक्ष सुमित्रा आर्य ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखकर देश की वीर और मार्शल कौम रहे सैनी समाज की भारतीय सेना में सैनी रजिमेंट का फिर से गठन करने की मांग की । जिलाध्यक्ष आर्य ने लिखा है कि सैनी समाज के लिए विश्वयुद्ध के दौरान अलग से सैनी रेजिमेंट लिए बनाई गई थी , जिसे आजादी के बाद सतासीन हुए राजनेताओं ने पक्षपात पूर्ण रवैया अपनाते हुए सैनी रजिमेंट को बंद करवा दिया गया । यह सैनी समाज द्वारा देश को दिए गए बलिदानों , वीरता और क्षमता पर सवालिया निशान खड़ा करता है । आज भी सैनी समाज के 27 प्रतिशत लोग भारतीय सेना की विभिन्न रजिमेंट्स में शामिल हैं । सैनी समाज ने देश की आजादी की लड़ाई में भी अहम् योगदान दिया है । आजादी के लिए उधम सिंह सैनी ने जनरल डायर को लंदन में जाकर गोली मारी थी । सैनी समाज का इतिहास सदा से ही गौरवशाली रहा है । सैनी समाज के महान योद्धा उधम सिंह सैनी के अलावा सम्राट चंद्रगुप्त मौर्य , सम्राट अशोक महान , महाराजा पोरस सैनी , क्रांतिकारी जगदेव प्रसाद सिंह कुशवाहा , महिला शिक्षा के जनक महात्मा ज्योतिबा फुले व सावित्री बाई फुले आदि समाज के महापुरुषों ने देश के उत्थान के लिए निरन्तर अपूर्व योगदान दिया है । ऐसे महान समाज की भारत सरकार लगातार उपेक्षा कर रही है । भारत सरकार को अब तक हुई गलतियों का सुधार करते हुए अब शीघ्र ही सैनी रेजिमेंट को फिर से शुरू करके सम्मान प्रदान करना चाहिए । यहां यह भी गौर करने लायक है कि देश भर में सैनी , माली , कुशवाहा , मौर्य , शाक्य , रेड्डी , सैनिक क्षत्रिय , काछी , कोली , मुराव आदि नामों से क्षेत्रीय पहचान रखने वाला सैनी समाज एक ही है और देश भर में इनकी आबादी की कुल संख्या 25 करोड है । ऐसे में सैनी समाज का यह हक बनता है कि हमारी यौद्धा कौम को भारतीय सेना में रेजिमेंट के रूप में सम्मानजनक स्थान दिया जाए ।

Sona  Devi

Sona Devi

Maliyo Ka Mhola Didwana, कलवानी रोड सर्किल के पास, Nagaur, Rajasthan

[ 795 Posts ]

Recent Comments