शिक्षा का मतलब क्या?पडा लिखे का क्या मतलब?

शिक्षा का मतलब क्या?पडा लिखे का क्या मतलब?

ऎसा किसी को प्रश्न पुछने पर उतर मिलेगा कि छात्रालय मे कोलेज मे महाविद्यालय में देने मे आता वो किताबी ज्ञान इसको ही शिक्षा कहते हैं। क्या? परंतु मेरी दृष्टि में शिक्षा को जीवन जीने की रीति शिखाएं, कोई भी परिस्थिति में हिलने ना दे एसा मक्कम बने रहे उसे शिक्षा, सुख और दुख, चडती ओर गीर्ती, पंसद ओर नापसंद, जित ओर हार हरेक परिस्थितियों में मक्कम रहेने कि कला... शिक्षा कोई भी विकट परिस्थितियों में से रस्ता निकाल ने कि रीत को शिक्षा कहतें है। दा. त. कोई छात्र को सुबह अपनी छात्रालय जाना हो ओर पता चले की साइकल में तो पंचर है। यह परिस्थितियों में वो छात्र क्या गुस्सा करे या छात्रालय मे जानें के लिए कोशिश न करे! या साइकल में पडा पंचर का गुस्सा दुसरे पर निकाले, या फिर साइकल पंचर बनाने के साधन लेकर अपने आप ही पंचर को ठीक करके छात्रालय मे पहोच जाए वो शिक्षा है। कोई भी परिस्थिति में मानसिक संतुलन बनाए रख योग्य रास्ता निकाल ने कि सुज बुझ को शिक्षा। अच्छा या बुरा, सत्य ओर असत्य, सज्जन ओर दुर्जन के बिच का भेद परख ने कि समज को शिक्षा। जिवन में आनेवाली कोई भी समस्या का समाधान कराने की समज को शिक्षा। मुश्किलों का सामना करने की शक्ति को शिक्षा। खुद की जात को श्रेष्ठ बनाने कि प्रक्रिया को शिक्षा। जिवन के हरेक पडाव मे नया शिख ने को शिक्षा। जिवन के हर मुकाम पर नया शिख ने शरूआत को शिक्षा। मेरी मत पर शिक्षा जिनव को उन्नत बनाने की ओर प्रगति के शिखर को सर कर ने कि जिज्ञासा वही शिक्षा है। लेखक :- डॉ. दिलिपभाई मकवाणा जय श्री लखमाजी महाराज ।

Ramesh Bhavan Bhai Mali

Ramesh Bhavan Bhai Mali

Word 4 Block F Plot No. 107 Adipur, Kachchh, Gujarat

[ 225 Posts ]

Recent Comments