हरिकेश मौर्य पांच हजार धावकों के बीच अमेरिका में जीता स्वर्ण पदक

हरिकेश मौर्य पांच हजार धावकों के बीच अमेरिका में जीता स्वर्ण पदक

मंजिले भी जिद्दी है , रास्ते भी जिद्दी है , देखते हैं कल क्या होगा , हौसले भी जिद्दी है । हम सलाम करते हैं ऐसे भारत के लाल का जिन्होंने रास्ते मे आने वाली हर एक कठिनाई का हिम्मत से सामना किया है । और अमेरिका में शनिवार को पांच हजार धावकों के बीच 10 किलोमीटर में पहला स्थान लाकर देश का नाम रोशन किया है।आखिर उसकी मेहनत बेकार नही गयी , क्योंकि कोशिश करने वालों की कभी हार नही होती- यह भले ही एक शायरी हो सकती है लेकिन यही जज्वा और जुनून , हौसले के साथ गोरखपुर के शहीदों की पावन भूमि चौरी चौरा का मौर्य वंश में जन्मे हिरिकेश मौर्य का है । हरिकेश का सपना है देश को ओलम्पिक जीत कर विश्व मे नाम रोशन करना रतीभान मौर्य है । जिसको पूरा करने के लिये रात दिन अमेरिका में पसीना बहा रहा है । एक साल पहले हरिकेश दौड़ लगाते लगाते अमेरिका पहुँच गया । अमेरिका के टेक्सास में ओलम्पिक की तैयारी में जी जान जुट गया । ओलम्पिक में भारत के लिये गोल्ड मेडल जीतने का सपना इस कदर हावी हुआ कि पिता ने बेटे के अरमान को पूरा करने के लिये अपनी जमीन ही बेच डाली । हरिकेश मौर्य चौरी चौरा के अहिरौली गांव के रहने वाले हैं पिता का नाम विश्वनाथ मौर्य है , परिवार एक साधारण किसान है । बचपन से हरिकेश के मन मे देश का नाम रोशन करने का जुनून सवार है । 2015 में नेशनल गेम्स में चौथा स्थान मिला । मन मे देश का नाम रोशन करने का सपना हरिकेश मौर्य को 2017 में अमेरिका पहुँच गया वहाँ आयोजित हुई हॉफ मैराथन में दूसरा मुकाम हासिल हुआ । उनकी कामयाबी और हौसले को देखकर उनको अमेरिका में स्कॉलर भी मिल गयी । शनिवार को अमेरिका में 10 किलोमीटर की रेस हुई जिसमें पांच हजार अधिक धावकों ने भाग लिया । जिसमे पहला स्थान लाकर गोल्ड मेडल प्राप्त कर देश का नाम रोशन किया । हरिकेश की कामयाबी पर उनके शुभचिंतको व परिजनों में खुशी की लहर दौड़ गयी है क्योंकि धावक हरिकेश ने अमेरिका में गोल्ड मेडल जीतकर एक इतिहास कायम किया है ।

मुकेश कुमार माली

मुकेश कुमार माली

Vill&Post-Pech Ki Baori, Tehsil-Hindoli,Distic-Bundi, Bundi, Rajasthan - 323025

[ 747 Posts ]

Recent Comments